3 अगस्त, 2020|3:34|IST

अगली स्टोरी

मकर

2 अग॰ 2020

सन्तान के स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। कारोबार में अवरोध आ सकते हैं। परिवार की जिम्मेदारी बढ़ सकती है। अनियोजित खर्च अधिक रहेंगे। माता-पिता का सानिध्य एवं सहयोग मिलेगा। फिर भी मित्रों का सहयोग मिलेगा। परिश्रम अधिक रहेगा। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)
 

मकर

3 अग॰ 2020

सन्तान के स्वास्थ्‍य में सुधार होगा। मानसिक शान्ति रहेगी। शिक्षा में व्यवधान आ सकते हैं। स्वभाव में जिद्दीपन रहेगा। जीवनसाथी से वैचारिक मतभेद हो सकते हैं। माता-पिता का सहयोग मिलेगा। खर्चों में वृद्धि होगी। स्वास्थ्‍य के प्रति सचेत रहें। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)
 

मकर

4 अग॰ 2020

घर-परिवार में धार्मिक एवं मांगलिक कार्य होगें। स्वभाव में जिद्दीपन रहेगा। जीवनसाथी से सम्बन्ध बिगड़ेंगे। लेखनादि-बौद्धिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है। मित्रों का सहयोग रहेगा। मीठे खान-पान में रुचि बढ़ सकती है।क्षणे रुष्टा-क्षणे तुष्टा के मनोभाव रहेंगे। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)
 

मकर

week32-2020

मकर : (22 दिसंबर-19 जनवरी)
संतान सुख में वृद्धि होगी, परिवार में हंसी खुशी का माहौल रहेगा। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थान या सत्संग आदि कार्यक्रम में समागम हो सकता है। नौकरी में अफसरों का सहयोग मिलेगा, तरक्की के योग बन रहे हैं। आय में वृद्धि होगी लेकिन स्थान परिवर्तन की संंभावनाएं बन रही हैं।  (पं. राघवेंद्र शर्मा)

मकर

1 अग॰ 2020

आत्मविश्वास से परिपूर्ण तो रहेंगे परंतु धैर्यशीलता में कमी रहेगी। मास के प्रारंभ में किसी धार्मिक स्थान की यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। परिश्रम अधिक रहेगा। 17 अगस्त के बाद भवन या संपत्ति में वृद्धि हो सकती है, परंतु सेहत के प्रति सचेत रहें। कारोबार में कुछ कठिनाई आ सकती है, परंतु आय संतोषजनक रहेगी। (पंडित राघवेंद्र शर्मा )

मकर

1 जन॰ 2020

मकर- ( 22 दिसम्बर-19 जनवरी)

शनि की साढ़े साती आपकी राशि पर चल रही है। इस वर्ष भी साढ़े साती का प्रभाव रहेगा। 25 जनवरी को शनि मकर राशि में प्रवेश करेंगे। मानसिक कठिनाइयों में कमी आएगी, परन्तु नौकरी में परिवर्तन हो सकता है। कार्यक्षेत्र में भी परिवर्तन सम्भव है। पारिवारिक समस्याएं परेशान कर सकती हैं। आठ फरवरी के बाद स्वास्थ्‍य के प्रति सचेत रहें। कार्यक्षेत्र में परिश्रम अधिक रहेगा। 30 मार्च के बाद पारिवारिक समस्याओं से निजात मिल सकती है। शैक्षिक कार्यों में सुधार आयेगा। एक जुलाई के बाद भौतिक सुखों में वृद्धि होगी। घर-परिवार में धार्मिक कार्य होंगे। कार्यक्षेत्र में विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है। कारोबार में कठिनाइयों का सामना भी करना पड़ सकता है। 21 नवम्बर के बाद परिस्थितियों में सुधार आएगा। वर्ष के अन्त में भवन या सम्पत्ति का लाभ हो सकता है। 

उपाय-

1-प्रतिदिन एक माला ‘ऊं प्रां प्रीं प्रौं सः शनये नमः’ मंत्र का जाप करें।

2-शनिवार के दिन शाम के समय पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं।

3-बृहस्पतिवार के दिन बेसन का मीठा परांठा गाय को खिलाएं (पं.राघवेन्द्र शर्मा)