11 अगस्त, 2020|8:46|IST

अगली स्टोरी

कुंभ

10 अग॰ 2020

बौद्धिक कार्यों से सम्मान की प्राप्ति होगी। धनार्जन के साधन बनेंगे। नौकरी में तरक्की के साथ स्थान परिवर्तन के योग बन रहे हैं। अध्ययन में रुचि बढ़ेगी। धार्मिक कार्यों के प्रति रुझान बढ़ सकता है। घर-परिवार में धार्मिक-मांगलिक कार्य होंगे। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)
 

कुंभ

11 अग॰ 2020

नौकरी में यात्रा पर जाना हो सकता है। खर्चों की अधिकता रहेगी। सेहत का ध्यान रखें। जीवनसाथी के स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। सन्तान सुख में वृद्धि होगी। वस्त्रों आदि पर खर्च बढ़ सकते हैं। माता का सहयोग मिलेगा। परिश्रम की अधिकता रहेगी। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)
 

कुंभ

12 अग॰ 2020

किसी मित्र से कारोबार का प्रस्ताव मिल सकता है। लाभ में वृद्धि होगी। यात्रा पर जाना भी पड़ सकता है। खर्च अधिक रहेगें। नौकरी में अफसरों से मतभेद हो सकते हैं। इच्छाविरुद्ध कोई अतिरिक्त जिम्मेदारी मिल सकती है। परिश्रम की अधिकता रहेगी। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)
 

कुंभ

week33-2020

कुंभ :
माता का सांनिध्य व सहयोग मिलेगा, बातचीत में संयत रहें। वाणी में कठोरता के भाव रहेगा, संचित धन में कमी आ सकती है। प्रतियोगी परीक्षा व साक्षात्कार आदि कार्यों के सुखद परिणाम मिलेंगे। घर-परिवार में धार्मिक संगीत के कार्य होंगे। वाहन सुख में वृद्धि होगी।  (पं. राघवेंद्र शर्मा)

कुंभ

1 अग॰ 2020

आत्मविश्वास में कमी रहेगी। मास के प्रारंभ में नौकरी में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। कार्यक्षेत्र में व्यवधान हो सकते हैं। 17 अगस्त के बाद नौकरी में तरक्की के अवसर मिल सकते हैं। अफसरों का सहयोग मिलेगा। कार्यक्षेत्र का विस्तार होगा। स्थिति में सुधार होगा। मीठे खानपान में रुचि बढ़ेगी। पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। (पंडित राघवेंद्र शर्मा )

कुंभ

1 जन॰ 2020

कुम्भ-( 20 जनवरी-18 फरवरी)

25 जनवरी से आपकी राशि पर शनि की साढ़े साती प्रारम्भ हो जाएगी। खर्चों की अधिकता रहेगी। मानसिक परेशानियां रहेंगी। संचित धन में कमी भी आ सकती है। दो फरवरी से स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। 30 मार्च के उपरान्त खर्चों में कमी आएगी। घर-परिवार में धार्मिक-मांगलिक कार्य हो सकते हैं। भवन के रख-रखाव तथा सौन्दर्यीकरण के कार्यों पर खर्च बढ़ सकते हैं। परिश्रम अधिक रहेगा। एक जुलाई से आय की स्थिति में सुधार होगा। धन प्राप्ति के योग बन रहे हैं। शैक्षिक कार्यों में सफलता मिलेगी। 17 अगस्त के बाद कारोबार में वृद्धि के योग बन रहे हैं। शासन सत्ता का सहयोग मिलेगा। वाहन की प्राप्ति हो सकती है। 24 सितम्बर के बाद से माता को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। दिनचर्या अव्यवस्थित हो सकती है। दिसम्बर में माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। दिनचर्या व्यवस्थित रहेगी।

उपाय-

1-प्रतिदिन प्रातः एक माला ‘ऊं त्रयम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्द्धनमं उर्वारूकमिव बन्धनान् मृर्त्योमुक्षिय मामृतात् रूद्राक्ष की माला पर जाप करें।

2-बुधवार के दिन गाय को हरी सब्जी या हरा चारा खिलाएं।

3-हर बृहस्पतिवार को एक मुट्ठी चने की दाल डलिये में डालें। इकट्ठा होने पर इसे मन्दिर के पुजारी को दे दिया करें। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)