1 अगस्त, 2020|9:14|IST

अगली स्टोरी

सफल स्ट्राइकर होने के लिए 'छठी इंद्री' का होना जरूरी: बाईचुंग भूटिया

महान भारतीय फुटबॉलर बाईचुंग भूटिया ने कहा कि सभी स्ट्राइकरों को नियमित रूप से गोल करने के सही मौके तलाशने के लिए 'छठी इंद्री' को विकसित करना होगा। अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) टेलीविजन से बात करते हुए भूटिया ने कहा कि स्ट्राइकर तभी सफल हो सकता है जब वह गोल करने के मौके को सही तरीके से परख सके।

यूएस ओपन टेनिस टूर्नामेंट से अभी और खिलाड़ी हटेंगे: एंडी मरे

भारत के लिए 100 मैच खेलने वाले पहले खिलाड़ी बनने वाले भूटिया ने कहा कि यह उस छठी इंद्री के बारे में है। आपको यह पता करने की जरूरत है कि मौका कहा से बन रहा है। दुनिया के सबसे अच्छे स्ट्राइकरों में यह समझदारी हैं।

इस 43 साल के पूर्व खिलाड़ी ने कहा कि आपको स्थितियों को पढ़ने आना चाहिए। जब तक आप अपनी छठी इंद्री विकसित नहीं करते, आप एक सफल स्ट्राइकर नहीं होंगे। भारत के लिए 104 मैचों में 40 गोल करने वाले भूटिया ने कहा कि आप 10 मौके में से एक या दो बार ही गोल करने में सफल होते है ऐसे में आपको जो भी मौका मिले उसमें पूरा जोर लगाना होता है।

सुनील छेत्री के जन्मदिन पर एक कार्यक्रम में शामिल होगें कई दिग्गज

लाइव हिन्दुस्तान टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है। यहां क्लिक करके आप सब्सक्राइब कर सकते हैं।
आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं? हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें।
  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें।
  • Web Title:Baichung Bhutia says To be a successful striker it is important to have a sixth sense